Microsoft ने बनाया दुनिया का सबसे शांत कमरा

अमेरिकी सॉफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने दुनिया का सबसे शांत कमरा तैयार किया है। वॉशिंगटन के रेडमंड परिसर स्थित कंपनी के मुख्यालय में बनाया गया है।

इससे जुड़ी बड़ी बातें

  1. सन्नाटा इतना कि 45 मिनट से ज्यादा रुक नहीं सकते हैं।
  2. कुछ लोग इस कमरे में आते हैं औैर एक मिनट भी रुक नहीं पाते। यहां इतना सन्नाटा होता है कि लोग घबराने लगते हैं।
  3. 10.5 करोड़ रुपए की लागत से तैयार इस कमरे में आप अपनी धड़कनों की आवाज भी साफ सुन सकते हैं।
  4. कमरे में आवाज -20.3 डेसीबल, बाहर की आवाज अंदर नहीं आ सकती हैं।
  5. सबसे शांत कमरे के लिए गिनीज बुक में भी नाम दर्ज हाेगा।

इसमें क्या है खास

पूरी तरह कंपनरोधी है कमरा

  1. इसे धरती का सबसे शांत कमरा कहां जा रहा है। क्योंकि यहां आवाज -20.3 डेसीबल में मापी गई।
  2. सबसे अधिक सन्नाटे वाले कमरे के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में भी जल्द ही इसका नाम दर्ज होगा।
  3. छह ठोस दीवारों के भीतर बना यह कमरा पूरी तरह कंपन रोधी है।
  4. प्रत्येक दीवार एक फीट मोटी है। इसके कारण बाहर की आवाज अंदर तक नहीं पहुंचती है।

यहां आवाज गूंजती नहीं है

  1. कमरे के अंदर आवाज भी नहीं गूंजती है।
  2. कमरे की दीवारों, फर्श और छत को बनाने में फाइबर ग्लास का इस्तेमाल किया गया है ताकि आवाज न गूंजे।
  3. कमरे की लंबाई, चौड़ाई और ऊंचाई 21-21 फीट हैं।
  4. यह कमरा 68 कंपन रोकने वाली स्प्रिंग पर बना है।
  5. इमारत के दूसरे हिस्से से अलग रखने के लिए इस कमरे को अलग फाउंडेशन स्लैब पर बनाया गया है।

सन्नाटा कमरा कैसे बनाया

  1. कमरे के अंदर, फर्श उसी स्टील केबल से बनाया गया है,
  2. जिसका इस्तेमाल फाइटर जेट्स की ध्वनि को रोकने के लिए किया जाता है।
  3. क्योंकि जब एयरक्राफ्ट कैरियर पर उतरते हैं, तो नीचे जाली सी बन जाती है।
  4. कंपनी के इंजीनियर गोपाल ने कहा कि इस परिसर में ऐसे सात साउंड चैंबर बनाए गए हैं।
  5. कंपनी के पास कुल 25 से ज्यादा ऐसे चैंबर हैं।

क्यों बनाया गया

  1. माइक्रोसॉफ्ट के इंजीनियर हुंद्राज गोपाल ने कहा कि इस कमरे को हेडफोन और माउस बटन की आवाज का परीक्षण करने के लिए बनाया गया है।
  2. परीक्षण से हम इन उपकरणों को ध्वनि की परिस्थिति के अनुकूल बनाते हैं।

यदि आर्टिकल आपके लिए जानकारीपूर्ण है, तो www.mogliworld.com से जुड़े और अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए इसे Twitter, Google+ and Facebook पर Share करें और subscribe करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *